डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? – Distance Learning Se Graduation Kaise Karen

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? : अगर आपके पास दैनिक तौर पर कॉलेज जाने का समय नहीं है और आप घर बैठे ही पढ़ाई करने के इच्छुक हैं तो आपको डिस्टेंस लर्निंग के बारे में अवश्य ही जानना चाहिए। डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत कुछ कॉलेज आपको यह मौका देते हैं कि आप अपने घर पर रह करके ही अपने पसंदीदा कोर्स की स्टडी कर सके, साथ ही ग्रेजुएट बन सके। 

भारत में सबसे बड़ा डिस्टेंस लर्निंग एजुकेशन इंस्टीट्यूट इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (IGNOU) है। इसके अलावा अन्य कई यूनिवर्सिटी और कॉलेज इंडिया में मौजूद हैं। आइए जानते हैं “डिस्टेंस लर्निंग क्या है” और “डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें?

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? Distance Learning Se Graduation Kaise Karen

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? यह प्रश्न बहुत लोगों के मन में आती है तो भारत में ऐसी अनेक विश्वविद्यालय तथा कॉलेज मौजूद है जो विद्यार्थियों के लिए डिस्टेंस एजुकेशन के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के कोर्स ऑफर करते हैं। विद्यार्थी अपनी पसंद के हिसाब से उन यूनिवर्सिटी के द्वारा ऑफर किए जा रहे कोर्स में एडमिशन प्राप्त कर सकता है।

और घर बैठे ही डिस्टेंस लर्निंग के जरिए स्टडी कर सकता है। डिस्टेंस लर्निंग के जरिए स्टडी करने के लिए विद्यार्थियों के पास स्मार्टफोन, लैपटॉप अथवा कंप्यूटर होना आवश्यक है, साथ ही अच्छी इंटरनेट स्पीड होना भी जरूरी है ताकि वह ऑनलाइन क्लास के जरूरी वीडियो अथवा लेक्चर को मिश ना करें।

डिस्टेंस लर्निंग क्या है? What is Distance Learning in Hindi

डिस्टेंस लर्निंग को डिस्टेंस एजुकेशन भी कहा जाता है। जिस विद्यार्थी के द्वारा डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत ग्रेजुएशन की डिग्री की जाती है उसे दैनिक तौर पर कॉलेज जाने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं होती है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 बल्कि डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत विद्यार्थी का एडमिशन किसी कॉलेज में हो जाता है परंतु वह कॉलेज जाए बिना अपने घर पर रह कर के ही अपने कोर्स की स्टडी करता है।

डिस्टेंस लर्निंग का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अगर किसी व्यक्ति के द्वारा किसी कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग के जरिए किया जा रहा है तो उसे रोजाना कॉलेज जाने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं होती है। इससे उसका समय भी काफी बचता है और वह अपना सारा ध्यान अपनी पढ़ाई पर लगा सकता है।

इसमें विद्यार्थियों को कंप्यूटर अथवा स्मार्टफोन के जरिए ऑनलाइन स्टडी करनी होती है। भारत में ऐसे कई कॉलेज है जो विद्यार्थियों के लिए डिस्टेंस लर्निंग का सिस्टम देते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

अगर आपने भी डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन करने का मन बना लिया है तो इसके लिए आपको सबसे पहले तो यह पता करना है कि ऐसे कौन से कॉलेज हैं जो डिस्टेंस लर्निंग का सिस्टम चलाते हैं।

उसके पश्चात आपको उन कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट से डिस्टेंस लर्निंग के लिए आवेदन करना है जिसके लिए आपको नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करना है।

1. जिस कॉलेज के द्वारा डिस्टेंस लर्निंग ऑफर किया जा रहा है आपको उस कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।

2. आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के पश्चात आपको डिस्टेंस लर्निंग वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है।

3. अब जिस कोर्स में आप एडमिशन लेना चाहते हैं उस कोर्स के नाम के ऊपर क्लिक करना है।

4. अब आपको Apply Now वाली बटन पर क्लिक करना है।

5. अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म के अंदर मांगी जा रही सभी जानकारियों को भरना है और आवश्यक शैक्षिक दस्तावेज भी अपलोड करने हैं।

6. अब आपको निर्धारित फीस को जमा कर देना है।

इस प्रकार से डिस्टेंस लर्निंग के जरिए आप ग्रेजुएशन करने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

अगर आप किसी कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग के जरिए करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको उस कोर्स में एडमिशन लेना पड़ेगा। इसके लिए आपको सीधा उस कॉलेज में जाना है जहां पर डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत उस कोर्स को ऑफर किया जा रहा है जिसे आप करना चाहते हैं।

उसके पश्चात आपको कॉलेज से संबंधित कर्मचारी से अथवा प्रिंसिपल से एडमिशन के बारे में बातचीत करनी है और उन्हें यह कहना है कि आप डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई करना चाहते हैं।

इसके पश्चात कॉलेज मैनेजमेंट के द्वारा आपसे एक एप्लीकेशन फॉर्म भराया जाएगा, जिसमें आपकी सभी पर्सनल जानकारी होगी साथ ही जरूरी दस्तावेज भी जमा करवाए जाएंगे, साथ ही आपको फीस भी भरने के लिए कहा जाएगा।

 इस प्रकार जब सारी प्रक्रिया का पालन आपके द्वारा कर लिया जाएगा तो आपको कोर्स में एडमिशन मिल जाएगा।

इन्हे भी जरूर पढ़े

डिस्टेंस लर्निंग से किए जाने वाले कोर्स

आप विभिन्न प्रकार के कोर्स डिस्टेंस लर्निंग के जरिए नहीं कर सकते हैं। खासतौर पर तो ऐसे कोर्स आप डिस्टेंस लर्निंग के जरिए बिल्कुल भी नहीं कर सकते हैं जिसमें प्रैक्टिकल की आवश्यकता होती है।

डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अधिकतर कॉलेज के द्वारा बीए, बीएससी, बीकॉम और एमकॉम जैसे कोर्स करने के लिए ऑफर किए जाते हैं। इसके अलावा डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत आर्ट्स और सोशल साइंस से भी विद्यार्थी स्टडी कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के फायदे

नीचे जानिए की डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अगर आप ग्रेजुएशन की पढ़ाई करते हैं तो कौन से एडवांटेज आपको हासिल होते हैं।

  • डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई करने पर आपको दैनिक तौर पर कॉलेज जाने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं होती है।
  • डिस्टेंस लर्निंग में आप घर बैठे ऑनलाइन कंप्यूटर अथवा स्मार्टफोन के जरिए स्टडी कर सकते हैं।
  • स्टडी के पश्चात बचे हुए समय में आप कहीं पर पार्ट टाइम नौकरी भी कर सकते हैं।
  • डिस्टेंस लर्निंग से पढ़ाई करने से आपके पास काफी समय बचता है।
  • जिन विद्यार्थियों के परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर है वह डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अगर पढ़ाई करते हैं तो उन्हें कम फीस भरनी पड़ सकती है।
  • ऐसी लड़कियां जो घर बैठे पढ़ाई करना चाहती है साथ ही दूर भी नहीं जाना चाहती हैं, वह डिस्टेंस लर्निंग के जरिए बीए,बीकॉम,बीएससी जैसी पढ़ाई कर सकती हैं और ग्रेजुएट बन सकती है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के नुकसान

अगर डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन किया जाता है तो इसके कौन से नुकसान होते हैं, इसके बारे में नीचे आपको जानकारी उपलब्ध करवाई गई है।

  • डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अगर पढ़ाई की जाती है तो इससे विद्यार्थियों को ज्यादा कुछ समझ में नहीं आता है क्योंकि प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीं होती है।
  • जो विद्यार्थी पढ़ाई में कमजोर है उनके लिए डिस्टेंस लर्निंग सही नहीं मानी जाती है।
  • कभी कबार डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत पढ़ाई करने के दरमियान इंटरनेट की स्पीड धीमें हो जाती है जिससे जरूरी लेक्चर अथवा वीडियो छूट जाते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने हेतु भारत के बेस्ट कॉलेज

आपके समक्ष हमने नीचे उन भारत के अंदर मौजूद कॉलेज की लिस्ट दी है जो डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के कोर्स ऑफर करते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? Distance Learning Se Graduation Kaise Karen
Distance Learning Se Graduation Kaise Karen

• इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय

• सिम्बायोसिस सेंटर फॉर डिस्टेंस लर्निंग

• यशवंतराव चव्हाण महाराष्ट्र ओपन यूनिवर्सिटी

• महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी

• स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (दिल्ली विश्वविद्यालय)

• नेताजी सुभाष ओपन यूनिवर्सिटी

• मध्य प्रदेश भोज ओपन यूनिवर्सिटी

• कर्नाटक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी

• डॉ. भीम राव अंबेडकर ओपन यूनिवर्सिटी

• तमिलनाडु ओपन यूनिवर्सिटी

दूरस्थ शिक्षा की मान्यता

दूरस्थ शिक्षा की मान्यता है क्योंकि यह UGC द्वारा अप्रूव है। दूरस्थ शिक्षा एक ऐसा एजुकेशन सिस्टम है जिसके अंतर्गत स्टडी करने वाले विद्यार्थी को कॉलेज में शारीरिक तौर पर उपलब्ध होने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं होती है। यही वजह है कि यह सिस्टम प्रणाली ऐसे लोगों के बीच काफी ज्यादा प्रचलित है।

 जिनके पास दैनिक तौर पर कॉलेज अथवा स्कूल जाने का समय नहीं होता है। पहले के समय में यह शिक्षा पद्धति पत्राचार के जरिए इस्तेमाल में ली जाती थी जिसके अंतर्गत स्टूडेंट और स्कूल अथवा कॉलेज के बीच पोस्ट के जरिए पत्राचार होता था।

इन्हे भी पढ़े

डिस्टेंस लर्निंग से सम्बंधित प्रश्न उत्तर {FAQs}

ओपन यूनिवर्सिटी क्या है?

डिस्टेंस एजुकेशन के उद्देश्य से स्थापित किए गए कॉलेज को ओपन यूनिवर्सिटी कहते हैं।

दूरस्थ शिक्षा की शुरुआत सर्वप्रथम किसने की?

दूरस्थ शिक्षा की शुरुआत सर्वप्रथम डॉ भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी ने की।

ऑनलाइन दूरस्थ शिक्षा आपको सीखने में कैसे मदद करती है?

स्मार्ट फोन और कंप्यूटर के जरिए।

ऑनलाइन सीखना बेहतर क्यों है?

ऑनलाइन सिखने में समय की बचत होती है, पैसे की बचत होती है।

अंतिम शब्द (Conclusion)

आशा करते हैं दोस्तों आप सभी को यहा लेख “डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें?” पसंद आया होगा इसी तरह के महत्वपूर्ण लेख पढ़ने के लिए रोजाना हमारे ब्लॉग में विजिट करें और ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले ताकि उन्हें भी यह जानकारी मिलती रहे धन्यवाद

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? – Distance Learning Se Graduation Kaise Karen

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap