दिवाली पर 4 बेस्ट निबंध व भाषण | Essay & Speech on Diwali in Hindi

दिवाली पर निबंध व भाषण – Essay & Speech on Diwali in Hindi : नमस्कार, आप सभी का हमारे ब्लॉग desifunnel.com में आज हम आपके लिए दिवाली पर निबंध और भाषण अर्थात essay & speech in hindi on diwali लेकर आए हैं।

सामान्यता स्कूल के छात्र – छात्राओं को दिवाली पर निबंध लिखने या भाषण (Essay & Speech on Diwali in Hindi) देने के लिए शिक्षक द्वारा कहा जाता है। तो इसी से संबंधित आज हम आपके लिए 4 बेस्ट भाषण या निबंध लेकर आए हैं। इस निबंध को class 1, 2, 3, 4, 5 से लेकर बड़े क्लास के बच्चे आसानी से याद कर सकते हैं।

दिवाली भारतवर्ष का सबसे प्रमुख त्यौहार है जिसे दीपावली या “दीपों का पर्व” भी कहते हैं। दीपावली में माहौल ऐसा रहता है कि पूरी दुनिया में प्रसन्नता छा गई हो। इस त्यौहार को लोग बहुत ही खुशी – खुशी मनाते हैं।

दिवाली पर निबंध व भाषण | Essay & Speech on Diwali in Hindi

तो चलिए दिवाली पर 4 बेस्ट Essay & Speech on Diwali in Hindi जान लेते है –

Essay & Speech on Diwali in Hindi
4 बेस्ट दिवाली पर निबंध व भाषण | Essay & Speech on Diwali in Hindi

दिवाली पर निबंध – 1 (Diwali Essay in Hindi 250 words)

दिवाली का त्यौहार भारत और कई दूसरे देशों में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। दिवाली के त्यौहार को दीपावली तथा दीपों का त्यौहार भी कहा जाता है। भारत में दीपावली का त्यौहार सबसे प्रमुख माना जाता है। जिसे भारत में बहुत ही धूमधाम से भाई चारे के साथ मनाया जाता है।

कहा जाता है कि इस दिन भगवान श्री राम रावण को पराजित करके और अपना 14 साल के वनवास काटकर अयोध्या वापस आए थे। भगवान राम के अयोध्या वापस लौटने की खुशी में दीप जलाकर अयोध्या के सभी लोगों ने उनका स्वागत किया था। इसी की खुशी में तभी से लेकर आज तक बहुत ही धूमधाम से दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है।

दिवाली के त्यौहार को बड़े से लेकर छोटे बच्चे तक बड़े ही हर्षोल्लास के साथ इस त्यौहार का आनंद उठाते हैं।

दिवाली के दिन सभी के घर इतने दिये जलाए जाते हैं कि पूरा भारत जगमगाता उठता है। इस दिन छोटे से लेकर बड़े लोग पटाखे जलाते हैं ।

इस त्यौहार में पटाखे और दिये इसलिए जलाए जाते हैं ताकि अंधेरे को दूर कर उजाला लाया जा सके। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। भारत के अलावा कई ऐसे देश है जहां पर भी दिवाली बहुत ही धूमधाम से मनाई जाती है।

दीपावली पर निबंध लेखन -2 (Deepawali / Diwali essay in hindi 350 words)

दिवाली एक ऐसा त्यौहार है जो सभी को खुशियां देता है। इसे दीपावली भी कहते हैं। यह त्यौहार प्रत्येक वर्ष अक्टूबर से नवंबर महीने के बीच मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम, रावण को खत्म कर 14 साल का वनवास पूरा करके दिवाली के दिन ही अयोध्या वापस लौटे थे । भगवान श्री राम के अयोध्या वापस लौटने की खुशी में अयोध्या के लोगों ने दिये जलाकर उनका स्वागत किया था। इसी की खुशी में तब से लेकर अब तक बड़े ही हर्षोल्लास के साथ दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है।

दिवाली का त्यौहार मुख्यता धनतेरस से लेकर भाई दूज तक होता है जिसे बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। दीपावली के त्यौहार आते ही लोग अपने घरों को रंग – बिरंगे झालरों और दीपो से सजाते हैं। सभी के घरों में बहुत ज्यादा मात्रा में दिये जलाए जाते हैं। जो बहुत ही मनमोहक प्रतीत होती है।

दिवाली के त्यौहार के अवसर पर स्कूल कॉलेजों में अवकाश घोषित किया जाता है। इस दिन घरों – घर में स्वादिष्ट मिठाइयां और पकवान बनाए जाते हैं। और घरों – घर पकवान बांटे जाते हैं। छोटे बच्चों से लेकर बड़े लोग इस पकवान का आनंद उठाते हैं ।

इस दिन भारी मात्रा में खरीदी भी की जाती है लोग नए – नए कपड़े, सोने चांदी के गहने, पटाखे और बर्तन खरीदते हैं। इस दिन सभी एक दूसरे के घर मिठाइयां बांटते है।

किसान गोवर्धन पूजा के दिन अर्थात दिवाली में गाय, भैंस को नहलाकर पूजा करते हैं और उन्हें भोजन के रूप में खिचड़ी खिलाते हैं गांव में गाय के झूठन को प्रसाद के रूप में बांटा जाता है।

सभी लोग माता लक्ष्मी, माता सरस्वती और भगवान गणेश की श्रद्धा भाव से पूजा करते हैं। दिवाली के महीने में ठंड लगना चालू होता है। जो की बहुत ही मनमोहक लगता है।

इस प्रकार हर साल यह दिवाली का त्यौहार आता है जो लोगों के जीवन में खुशियां भर लाता है लोग अपनी नई जिंदगी का शुरुआत करते हैं। इसलिए दिवाली प्यार, एकता, भाईचारा और श्रद्धा का त्यौहार है। और इसे पूरे भारतवर्ष में बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है।

मेरा प्रिय त्यौहार “दिवाली” -3 (Essay on Diwali)

भारत में कई त्यौहार मनाया जाते हैं लेकिन उनमें से सबसे प्रमुख त्यौहार दिवाली को माना जाता है। यह देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी बहुत अच्छे से मनाया जाता है।

दिवाली का त्यौहार हर वर्ष कार्तिक माह की अमावस्या को बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री रामचंद्र जी रावण का अंत कर 14 वर्ष का वनवास काटकर सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस लौटे थे।

उनके वापस लौटने की खुशी में अयोध्या के वासियों ने अपने घर के बहार दीये जलाए थे। तभी से लेकर अब तक उस पल को याद करते हुए बड़े ही धूमधाम से दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक भी माना जाता है।

दिवाली का त्यौहार 5 दिन तक होता है पहला दिन धनतेरस अर्थात धनत्रयोदशी का होता है । इस दिन लोग सोने चांदी के आभूषण तथा नए – नए बर्तन और अपने घरों के लिए सामान खरीदते हैं। दूसरा दिन नरक चतुर्दशी अर्थात रूप चौदस या काली चौदस के रूप में मनाया जाता है । कहा जाता है इस दिन सुबह सूर्य उदय होने से पहले ही स्नान करने से पाप कम होता है।

तीसरा दिन लक्ष्मी पूजा का होता है इस दिन भगवान लक्ष्मी की बड़े ही धूमधाम से पूजा की जाती है छोटे से बड़े लोग नए – नए कपड़े धारण करते हैं। और घरों – घर मिठाई भी बांटी जाती है। चौथा दिन गोवर्धन पूजा का होता है इस दिन किसान अपने गाय, भैंस को नहला कर उनकी पूजा करते हैं। और प्रसाद के रूप में गायों का जूठन खिचड़ी को प्रसाद के रूप में बांटा जाता है।

पांचवा दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता है इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगाती है और उसके लंबी उम्र की प्रार्थना करती है।

इस तरह से दिवाली का त्यौहार बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। यह त्यौहार सफाई के महत्व को भी दर्शाता है। इस त्यौहार के आने से पहले लोग अपने घरों की सफाई और घरों की लिपाई और पुताई करते हैं। और अनेक प्रकार के झालरों और दीयों से अपने घरों को सजाते हैं। इस तरह दिवाली का त्यौहार बड़े ही हर्षोल्लास के साथ सभी वर्ग के लोग मनाते हैं।

दिवाली पर भाषण या लेखन – 4 (Speech in Hindi on Diwali)

दिवाली एक बहुत ही बड़ा हिंदू त्यौहार है जो हर साल नवंबर या अक्टूबर के महीने पर मनाया जाता है पूरे भारत के लोग इश्तहार को बहुत ही धूमधाम से और मजे से मनाते हैं दिवाली अक्सर अक्टूबर या नवंबर के महीने में मनाते हैं हम दिवाली के दिन हम अपने को दोस्तों के साथ मिलकर पूरे घर को दिए से सजाते हैं और बहुत ही सुंदर बनाते हैं।

जैसे कि आप सभी जानते होंगे दिवाली के दिन पूरा बाजार पटाखों से मिठाइयों और नए-नए कपड़ों से भरा होता है। इस दिन हम नए कपड़े पहनते हैं मिठाईयां खाते हैं और खुशियां मनाते हैं।

तो चलिए अब हम इसके पीछे की वजह जान लेते हैं कि दिवाली क्यों मनाते हैं ?

दिवाली मनाने का मकसद यह है कि इसी दिन श्री राम जी अपनी पत्नी सीता और अपने छोटे भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस लौटे थे तो उनके स्वागत के लिए पूरा अयोध्या को दिये से सजाया गया था। और वह दृश्य काफी मनमोहक था। इसलिए तब से लेकर आज तक हम सभी दिवाली मनाते हैं।

दिवाली का त्यौहार हम सभी को यह सीख देता है कि बुराई चाहे कितने भी ताकतवर क्यों ना हो अच्छाई के सामने हमेशा घुटने टेक लेती है।

दिवाली के दिन हम क्या-क्या करते हैं ?

दिवाली के दिन हम अपने घरों को सजाते हैं सुंदर रंगोली बनाते हैं। तरह-तरह के लाइटों का इस्तेमाल कर मनमोहक दृश्य बनाते हैं। दिवाली के दिन मां लक्ष्मी जिन्हें धन की देवी भी कहा जाता है उनकी पूजा की जाती है। सभी लोग भाई चारे के साथ गले मिलकर एक दूसरे को मिठाइयां खिलाते हैं। और सभी को दिवाली की शुभकामनाएं देते हैं।

Diwali Essay in hindi 10 Lines for Child

1. दीपावली हमारे देश का सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है।

2. यह त्यौहार हर साल अक्टूबर से नवंबर के महीने में मनाया जाता है।

3. दिवाली को दीपों का त्यौहार कहते हैं।

4. प्रभु राम जी के 14 वर्ष के बाद वनवास से वापस लौटने की खुशी में दीपावली का पर्व मनाया जाता है।

5. यह अंधकार को दूर कर प्रकाश लाने का त्यौहार है।

6. दशहरे के 20 दिन बाद दीपावली का त्यौहार आता है।

7. दीपावली पर्व के पहले सभी लोग अपने घर पर सफाई और पुताई का काम करते हैं।

8. दीपावली के लिए सभी मिठाईया, फटाके, नए कपड़े और अलग-अलग चीजें खरीदते हैं

9. दीपावली के दिन माता लक्ष्मी जी और गणेश जीकी पूजा की जाती है।

10. दीपावली के पर्व को सभी लोग बड़े धूमधाम से मनाते हैं। यह त्यौहार प्रेम और भाईचारे का प्रतीक भी माना जाता है।

निष्कर्ष (conclusion)

आशा है दोस्तों आपको यह लेख Essay & Speech on Diwali in Hindi पसंद आया होगा इसी तरह के आर्टिकल और पढ़ने के लिए हमें सब्सक्राइब करें। और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

आज हमने दिवाली पर 4 बेस्ट निबंध व भाषण, Essay & Speech on Diwali in Hindi लेख के माध्यम से बताया उम्मीद करते है आपको पसंद आया होगा। धन्यवाद

इन्हे भी जरूर पढ़े –

Categories GENERAL

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap