About pigeon in hindi information | कबूतर के बारे में

About Pigeon in hindi information | कबूतर के बारे में पूरी जानकारी : हैलो दोस्तों, एक बार फिर से आप सभी को नमस्कार आज मैं आपके लिए सुंदर पक्षी कबूतर पर निबंध लेकर आया हूं।

यह निबंध (essay) छोटे बच्चे से लेकर सभी लोगों के लिए हैं जो मोर के बारे में (dove bird in hindi ) जानना चाहते हैं। अधिकतर निबंध जैसे लेखन कार्य शिक्षकों द्वारा विद्यार्थियों को दिए जाते हैं । तो विद्यार्थी यहां से निबंध याद करके याद करके आसानी से लेखन का कार्य कर सकते हैं। तो हमारे साथ बने रहिये।

इससे पहले हमने दूसरे – पशु पक्षियों से संबंधित और कई लेख लिखे हैं जिसे भी आप पढ़ सकते हैं।

पक्षी कबूतर (Pigeon)
वैज्ञानिक नाम Columbidae
प्रजातियां आइस पिजन, डच ब्यूटी होमर और बहुत से
रंग मुख्यतः सफ़ेद , भूरा , स्लेटी और बहुत से
जीवनकाल 20 – 25 वर्ष
भोजन चावल, गेहूं, बाजरे का दाना और फल
उड़ने की गति औसत 77 .6 किमी / घंटा
कबूतर की लम्बाई 13 से 70 से. मी.

About pigeon in hindi | कबूतर के बारे में पूरी जानकारी [300 words]

कबूतर (About pigeon in hindi) एक बहुत सुंदर पक्षी है और यह पूरे विश्व में पाया जाता है, यह लोगों के द्वारा प्राचीन काल से ही पालतू पक्षी के रूप में प्रयोग किया जाता आ रहा है कबूतर विभिन्न प्रकार के और तरह-तरह के रंगों में पाए जाते हैं।

यह सफेदी, स्लेटी और भूरे रंग में पाए जाते हैं भारत में भूरे, सफेद और स्लेटी कबूतर पाए जाते हैं अधिकतर सफेद कबूतर घरों में पाले जाते हैं जबकि स्लेटी और भूरे कबूतर जंगलों में पाए जाते हैं।

कबूतर बहुत ही बुद्धिमान पक्षी होता है कबूतर की जंगल में आयु 6 वर्ष होती है ज्यादातर कबूतर शाकाहारी होते हैं वह अनाज, बाजरे के दाने और फल आदि खाते हैं इनकी याद दाश्त बहुत अच्छी होती है कबूतर 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से आसानी से उड़ सकते हैं।

कबूतर का पूरा शरीर पंखों से ढका होता है और यह बिना रुके काफी देर तक उड़ सकते है कबूतर के पास एक चोंच होती हैऔर इसके पंजे ज्यादा नुकीले नहीं होते। इसके पंजों की बनावट इस तरह होती है कि यह आसानी से पेड़ की साखाओं को मजबूती से पकड़ सकते है।

कबूतर बहुत ही शांत स्वभाव के होते हैं और इन्हें प्राचीन काल में जब संचार का कोई माध्यम नहीं था तो संदेश देने के लिए भेजा जाता था इन्हें शांति का प्रतीक भी माना जाता है।

कबूतर किसी भी व्यक्ति को नहीं भूलते और दोबारा देखने पर उन्हें पहचान लेते हैं कबूतरों को समूह में रहना पसंद होता है और साथ ही इन्हें इंसानों के साथ रहना भी अच्छा लगता है।

कबूतर पूरे जीवन एक ही जोड़ा बनाकर रखते हैं यह एक समय में दो अंडे देते हैं 19-20 दिन में चुजे अंडे से बाहर आ जाते हैं और अंडो को नर और मादा दोनों सेकते हैं कबूतर स्वभाव से मिलनसार होते है।

Pigeon information in hindi | कबूतर की जानकारी [long type essay]

कबूतर बड़ा ही सुंदर प्यारा सा पक्षी होता है। संसार भर में कबूतरों (dove bird) की बहुत सारी प्रजातियां पाई जाती है। लोग चिट्ठिया भेजने के लिए पुराने समय में कबूतरों को माध्यम की तरह इस्तेमाल करते थे।

कबूतर (About pigeon in hindi) लोगो द्वारा लिखी हुई चिट्ठिया को आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाते थे। यह कार्य संभव हो पाता था क्योंकि कबूतर की याद दाश्त बहुत अधिक होती है।

कबूतर काफी ऊंचाई पर उड़ सकता है और इसे शांति का प्रतीक भी माना जाता है क्योंकि यह दूसरे पक्षियों की तरह शोर नहीं मचाते है लोग सफेद कलर के कबूतरों को बहुत पसंद करते हैं उसका रंग सफेद होने के कारण उसे शांति का प्रतीक भी मानते हैं।

कबूतर की प्रजातियां | Species of Pigeon in hindi

दुनिया में कबूतरों की ढेर सारी प्रजातियां (नस्लें) पाई जाती है। कबूतर मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं पहला तो जंगली कबूतर और दूसरा घरेलू कबूतर ।

कबूतर के कुछ नस्ल निम्न है :

  • Jacobin Pigeon
  • chinese own Pigeon
  • homing Pigeon
  • racing Pigeon
  • tippler Pigeon
  • roller Pigeon
  • router Pigeon
  • english Pigeon
  • career Pigeon
  • old german owl Pigeon

और बहुत से कबूतर की नस्लें पाई जाती है।

कबूतर की शारीरिक संरचना | Body structure of pigeon

कबूतर की शारीरिक संरचना भी अन्य पक्षियों के जैसा ही होता है । कबूतर के पूरे शरीर पर छोटे-छोटे बाल पाए जाते हैं । जिसके द्वारा यह गर्मी और सर्दी में अपने शरीर के तापमान को नियंत्रित करके रखता है।

कबूतर (About pigeon in hindi) के दो पैर होते हैं। इनके पंजे ज्यादा नुकीले नहीं होते हैं कबूतर के गले की ओर हरे, नीले या बैगनी रंग की हल्की सी झलक होती है।

गले में इनके काले कलर के रिंग बने होते हैं। इसकी दो आंखें होती है जो की प्रजातियों के अनुसार अलग – अलग रंग का होता है। इसके चोंच के ऊपर दो छेद पाए जाते हैं जहां से कबूतर सांस लेते हैं।

कबूतर का आहार या भोजन | food of pigeon

कबूतर आहार या भोजन के रूप में अनाज , मक्का ,बाजरा , फल खाते हैं । इसके अलावा कबूतर घरेलू भोजन , रोटी के टुकड़े इत्यादि खाते हैं।

कबूतरों केवल एक तरह के दाने खाने पसंद नहीं यदि उन्हें एक ही तरह का दाना दिया जाये तो वे दाना नहीं खाते जिससे वे बीमार हो जाते हैं इसलिए कबूतरों को हमेशा गेहूं, बाजरा, चावल का मिक्स दाने दिए जाते हैं।

कबूतर का रंग | colour of pigeon

मुख्यतः कबूतर (About pigeon in hindi) भारत में 3 रंगों में पाया जाता है भूरे ,स्लेटी और सफेद ।

इनके आंखें उनके नस्ल के अनुसार भूरे तथा लाल होते हैं । इसके गले के पास उभरा हुआ हरा, नीला, पीला व बैंगनी रंग का हल्का सा परत होता है। तथा इसके 2 पैर होते हैं जो लाल या भूरे रंग के होते हैं।

सफेद रंग का कबूतर बहुत ही सुंदर दिखता है जिसे शांति का प्रतीक भी माना जाता है।

कबूतर का निवास स्थान | habitat of pigeon

‘पोपियो’ नामक लैटिन शब्द से कबूतर शब्द की उत्पत्ति हुई है । पूरे विश्व भर में कबूतर की लगभग 300 से ज्यादा किस्मे पाई जाती है।

लेकिन एशिया और ऑस्ट्रेलिया महाद्वीपों में कबूतर की सबसे ज्यादा प्रजातियां पाई जाती है। कबूतर दो प्रकार के होते हैं पहला जंगली और दूसरा घरेलू।

जंगली कबूतर जंगल, तटीय क्षेत्रों में पाए जाते हैं तथा घरेलू कबूतर मानव निवासिय क्षेत्रों में पाए जाते हैं।

कबूतरों में प्रजनन | Breeding in pigeons

कबूतर (About pigeon in hindi) हमेशा अपने मादा जोड़े साथी के साथ ही रहते हैं। वसंत ऋतु और गर्मियों का समय में ही इनके बीच प्रजनन होता है।

इसके बाद मादा कबूतर एक साथ दो अंडे अपने घोसले में देती है। इन दोनों अंडों को मादा तथा नर कबूतर दोनों सेने का काम करते हैं। अधिकतर अंडे को रात में मादा तथा दिन में नर कबूतर सेते है। अंडे देने के 19 से 20 दिन बाद अंडे से चूजे बाहर आ जाते हैं।

Intresting Facts about Pigeon in hindi | Dove bird | कबूतर पर रोचक तथ्य

  • पूरे विश्व में लगभग 40 करोड़ कबूतर पाए जाते हैं।
  • कबूतर और इंसान का रिश्ता बहुत ही पुराना है कबूतर के सुनने की क्षमता बहुत उत्कृष्ट होती है।
  • कबूतर की देखने की क्षमता अधिक होती है इसीलिए यह 26 मील दूर रखी वस्तु को भी स्पष्ट देख सकते हैं।
  • समान्यता कबूतरों की उम्र 20 वर्ष की होती है सबसे ज्यादा जीने वाला कबूतर 25 वर्ष का था।
  • कबूतर ही एक ऐसा प्रणी है जिसने मिरर टेस्ट को पास किया अर्थात कबूतर अपने आप को शीशे में पहचान सकते हैं।
  • कबूतर कभी भी अपना रास्ता नहीं भूलते यह 2000 किलोमीटर जाकर वापास उसी रास्ते पर आ सकते हैं।
  • कबूतर 6000 फीट तक उड़ सकते हैं कबूतर की उड़ने की औसत रफ्तार लगभग 77.8 किलोमीटर प्रति घंटे की होती हैं।
  • क्या आपने कभी कबूतर की चूजे देखे हैं यह देखने में बहुत खूबसूरत होते हैं लेकिन यह बहुत कम दिखाई देते हैं क्योंकि मादा कबूतरी कभी भी अपने बच्चों को घोसले से अलग नहीं करते जब तक उनका पूर्ण रूप से विकास ना हो जाए।
  • मादा कबूतरी 1 बार में दो या तीन अंडे देती हैं अंडे से निकलने में चूजों को 19 से 20 दिन लग जाते हैं।
  • बच्चों को पालने की जिम्मेदारी नर और मादा दोनों की होती है।
  • कबूतर ही एक ऐसे प्राणी है जिसमे नर और मादा दोनों ही बच्चों को दूध पिला सकते हैं।
  • कबूतर को रोजाना 30 मिलीलीटर पानी की जरूरत होती है कबूतर पानी की पूर्ति करने के लिए बर्फ का भी उपयोग कर सकते हैं।
  • कबूतर हम इंसानों को पहचान सकते हैं और लंबे समय तक यह इंसानों के चेहरे याद रख सकते हैं।
  • कबूतरअत्यधिक मिलनसार पक्षी होते हैं यह अक़्सर 20 से 30 के झुंड में दिखाई देते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

आशा करते हैं दोस्तों आज का यह लेख About pigeon in hindi आपको पसंद आया होगा इसी तरह से अच्छे आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग desifunnel.com को जरूर सब्सक्राइब करें। इसी के साथ आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हैं ताकि आपको हमारे हर एक नए पोस्ट की जानकारी तुरंत मिलती रहे।

आज हमने About pigeon in hindi information, dove bird in hindi, essay on pigeon, Intresting Facts about Pigeon in hindi, कबूतर के बारे में पूरी जानकारी दी है उम्मीद करते है आपको पसंद आयी होगी। धन्यवाद

इन्हे भी जरूर पढ़े

Categories GENERAL

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap