जीवन क्या है? जीवन का सही अर्थ, उद्देश्य और महत्त्व

Jivan Kya Hai : जीवन अर्थात जिंदगी के बारे में सभी लोगों का अपना अपना नजरिया होता है और सभी लोग अपने अपने हिसाब से जीवन जीते हैं। किसी व्यक्ति के द्वारा अपने जीवन में ज्यादा मेहनत की जाती है तो किसी व्यक्ति के द्वारा कम मेहनत की जाती है।

हर व्यक्ति अपने अपने हिसाब से जीवन के सुख को भोगने का प्रयास करता है। हालांकि वास्तविक तौर पर काफी कम ही लोगों को जीवन का सही मतलब पता होता है। अगर आप भी जीवन के सही मतलब से अनजान है तो आइए इस आर्टिकल में जानते हैं कि “जीवन क्या है” और “जीवन का मतलब क्या होता है?”

जीवन क्या है? (Jivan Kya Hai)

किसी भी व्यक्ति अथवा जानवर या फिर पौधे के पैदा होने से लेकर के उसकी समाप्ति तक की जो अवस्था होती है उसे ही जीवन कहा जाता है। हम ऐसा भी कह सकते हैं कि पैदा होने से लेकर के समाप्ति तक का जो समय काल होता है उसे ही जीवन कहा जाता है।

किसी भी इंसान या फिर जीव जंतु की उत्पत्ति नर और मादा के बीच समागम होने के पश्चात होती है, जो कि एक प्राकृतिक प्रक्रिया होती है। इसके अलावा प्राणी का चेतन भी जीवन का आधार होता है जिसके द्वारा उससे जीवन से संबंधित सभी क्रियाओं को करवाया जाता है।

काफी लोग यह मानते हैं कि जीवन भगवान का दिया हुआ एक वरदान है परंतु किसी के पैदा होने या फिर उत्पत्ति का जो आधार है वह संभोग की इच्छा होती है। यह मादा और नर के बीच सहवास के दरमियान पैदा होती हैं।

जिसके द्वारा संभोग जैसी प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है और उसके पश्चात प्रकृति के द्वारा एक नया जीवन जीव-जंतु अथवा इंसान के रूप में दिया जाता है। कई दार्शनिकों के मत के अनुसार जीवन जीने का नाम है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

जीवन का सही अर्थ क्या है?

हमें हमारे जीवन में किसी भी काम को करने से पहले काफी सोच विचार अवश्य कर लेना चाहिए क्योंकि सोच विचार करके जो काम किया जाता है अथवा जो निर्णय लिया जाता है वह कभी भी अनुचित नहीं होता है।

अगर हमारे द्वारा सही निर्णय लिया जाता है तभी हमारे जीवन को आगे चलकर के सही दिशा और अवसर प्राप्त हो पाते हैं जो कि हमारे जिंदगी के लिए बहुत ही लाभकारी साबित होते हैं।

कभी-कभी हमारे पास इतने अच्छे मौके आते हैं कि ऐसा मौका हमें भविष्य में फिर नहीं मिल पाता है परंतु हमें उस समय उस मौके की कदर नहीं होती है और जब मौका हमारे हाथ से चला जाता है तब हमें इस बात का काफी पछतावा होता है। इसलिए किसी भी अच्छे मौके को अपने हाथ से जाने नहीं देना चाहिए।

जीवन का उद्देश्य क्या है?

पृथ्वी पर ऐसे प्राणियों की काफी भरमार है जो जीवन तो जी रहे हैं पर परंतु उनके जीवन का ना तो कोई लक्ष्य है ना ही कोई उद्देश्य है। भगवान के द्वारा इस धरती पर विभिन्न प्रकार के जीव का निर्माण किया गया है परंतु उनमें से इंसान ही एकमात्र ऐसा जीव है जो अपना लक्ष्य भी तय कर सकता है और अपना उद्देश्य भी निर्धारित करके उसे पूरा करने का प्रयास कर सकता है।

भगवान के द्वारा इंसानों का निर्माण शायद इसी लिए किया गया है ताकि वह अपने जीवन के उद्देश्य को पूरा कर सके या फिर अपने जीवन के उद्देश्य को सही प्रकार से समझ सके। हम इंसानों के जीवन के उद्देश्य के बारे में बात करें तो हमें किसी भी व्यक्ति के साथ बेईमानी नहीं करनी चाहिए और हमें हमेशा परोपकार की भावना रखनी चाहिए।

इसके अलावा हमें हमेशा अपने कर्म पर भरोसा रखना चाहिए क्योंकि भगवान भी उसी का साथ देते हैं जो अपने कर्म पर भरोसा रखते हैं ना कि अपनी किस्मत को कोसते रहते हैं।

जीवन के प्रतीक क्या है?

क्या आप जानते हैं जीवन का प्रतीक क्या है, जीवन का प्रतीक समस्या होती है, क्योंकि बिना समस्या के ना तो आप कुछ सही प्रकार से सीख पाते हैं ना ही आपको सफलता का आनंद आता है। किसी भी व्यक्ति की जिंदगी में समस्याएं भी तभी आती है जब वह कुछ करने के लिए अपने कदम आगे बढ़ाता है।

जो लोग कुछ करते ही नहीं है उनके जीवन में ना तो समस्या आती है ना ही सफलता हाथ लगती है। ऐसे लोगों के जीवन को निष्क्रिय जीवन कहा जाता है। डॉक्टर विंसेंट पील के अनुसार भी यह कहा गया है कि जीवन का प्रतीक समस्या ही है क्योंकि जब तक व्यक्ति जिंदा है तब तक वह काम करता रहेगा तथा संघर्ष करता रहेगा और तब तक समस्या भी बनी रहेगी।

जीवन का निर्माण कैसे होता है?

जीवन को अंग्रेजी भाषा में लाइफ कहा जाता है जिसका मतलब यह होता है कि व्यक्ति, जीव जंतु, जानवर के जन्म से मृत्यु के बीच का जो समय होता है उसे ही जीवन कहा जाता है। जीवन इंसान को भगवान के द्वारा दिया गया एक अमूल्य उपहार होता है परंतु हमारी इच्छा से ही क्या हमारा जन्म होता है अर्थात हम पैदा होते हैं?

नहीं जीवन की उत्पत्ति किसी मादा और नर के समागम के परिणाम के तौर पर होती है जो कि प्रकृति के नियम के अनुसार ही होता है। इसके अलावा जिंदगी का मुख्य अंग एक चेतन तत्व होता है। यही चेतन तत्व हमारे जीवन की सभी क्रियाओं का साक्षी होता है।

जीवन का मूल क्या है?

धर्म को ही हमारे जीवन का मूल आधार कहा गया है क्योंकि जब धर्म की बढ़ोतरी होती है तो उसी के साथ ही साथ जितने भी प्राणी है उनकी बुद्धि में भी बढ़ोतरी होती है, वही जब धर्म की हानि होती है तो सभी प्राणियों की भी हानि होती है।

ग्रंथों में इस बात का स्पष्ट उल्लेख है कि हमेशा साफ और सत्य बोलो साथ ही धर्म का आचरण करो। श्रीमद्भागवत गीता की भी शुरुआत धर्मक्षेत्र शब्द से ही होती है क्योंकि धर्म को ही परमात्मा का दूसरा नाम कहा गया है। सभी जीवित वस्तुओं के लिए धर्म लौकिक तथा पारलौकिक उन्नति के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

जीवन में सफल कैसे बने?

जीवन में सफल बनने के लिए हमें कभी भी हार नहीं माननी चाहिए। किसी चीज को करने में अगर आप लगातार हार का सामना कर रहे हैं तो भी प्रयास करना बिल्कुल भी ना छोड़े क्योंकि ऐसा करने से सफलता 1 दिन आपके कदम चूमेगी। इसके अलावा हमें समय की कीमत पता होनी चाहिए और समय की कदर करनी चाहिए।

हमें अपने आप पर भी हमेशा भरोसा रखना चाहिए ताकि आपको किसी अन्य व्यक्ति के सहारे की आवश्यकता ना पड़े। हमें निरंतरता बनाकर रखनी चाहिए ताकि हम जल्दी से अपनी मंजिल को प्राप्त कर सके।

इसके अलावा हमें जिंदगी में हमेशा इमानदारी से मेहनत करके आगे बढ़ने का प्रयास करना चाहिए। इसके अलावा हमें हमारा लक्ष्य भी पता होना चाहिए साथ ही हमें अपने मन को यहां-वहां भटकने से भी रोकना चाहिए तथा अपने गुस्से पर काबू करके रखना चाहिए। इसके अलावा सज्जनों की संगत करनी चाहिए।

Jivan Kya Hai

जीवन क्या है? से सम्बंधित प्रश्न उत्तर {FAQs}

जीवन में सबसे अच्छी चीज क्या है?

जीवन में सबसे अच्छी चीज मानसिक शांति है?

जीवन कब उत्पन्न हुआ?

जीवन नर और मादा के समागम के पश्चात उत्पन्न हुआ?

जीवन का पहला कृत्य क्या है?

जीवन का पहला कृत्य श्वास है?

मानव जीवन कितना पुराना है?

मानव जीवन 3,50,000 साल पुराना है?

अंतिम शब्द (Final Word)

आशा करते हैं दोस्तों आप सभी को आज का यह लेख पसंद आया होगा। आज हमने इस लेख में जीवन क्या है? जीवन का सही अर्थ, उद्देश्य और महत्त्व के बारे में संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है।

अगर आपके मन में से संबंधित कोई प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं हम आपके प्रश्न का जल्द ही उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

अगर आज का हमारा यह लेख आपको पसंद आया हो तो हमारे ब्लॉग को जरूर सब्सक्राइब करें और इसे अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले ताकि उन्हें भी यह जानकारी मिल सके धन्यवाद।

जीवन क्या है? जीवन का सही अर्थ, उद्देश्य और महत्त्व

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap