NASA Full Form in Hindi – नासा का फुल फॉर्म क्या है ? पूरी जानकारी

NASA Full Form in Hindi : क्या आप जानते हैं कि कौन हमें अंतरिक्ष की सारी खबरें ला कर देता है तो आज हम इसी के बारे में बात करने वाले हैं। आज के लेख में हम जानेंगे नासा का फुल फॉर्म क्या होता है ? (NASA Full Form in Hindi) नासा क्या हैं ? नासा कहां पर स्थित है और नासा का इतिहास क्या है ?

नासा के बारे में जानकारियां बहुत सी ऐसी है जिसे आप नहीं जानते होंगे चलिए आज के इस लेख में जान लेते हैं।

NASA Full Form in Hindi – नासा का फुल फॉर्म क्या होता है ?

नासा का फुल फॉर्म होता है National Aeronautics And Space Administration जिसे हिंदी में (NASA Full Form in Hindi) राष्ट्रीय वैमानिकी और अंतरिक्ष प्रशासन कहते हैं।

जाने

नासा क्या है ? (What is NASA in Hindi)

NASA संयुक्त राज्य अमेरिका के अंतर्गत आता है जो देश के सार्वजनिक अंतरिक्ष कार्यक्रमों व एयरोनॉटिक संशोधन के लिए जिम्मेदार होता है।

नासा दुनिया की सबसे बड़ी स्पेस एजेंसी मानी जाती है जिसने अंतरिक्ष क्षेत्र में बड़े से बड़े मुकाम को हासिल किया है भले ही चंद्रमा पर जाने की बात हो या मंगल पर। NASA ने अंतरिक्ष के बड़े से बड़े ग्रह और उपग्रह पर जाकर अपना जज्बा दिखाया है।

NASA के चेयरमैन / मालिक कौन है ?

वर्तमान समय में नासा के चेयरमैन Jim Bridenstine है वर्तमान में NASA इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन को समर्थन दे रहा है । इसके साथ ही वह Orion multipurpose crew vehicle, The Space launch System और commercial crew vehicle के निर्माण और विकास में भी अपना योगदान दे रहा है।

NASA का टैगलाइन क्या है ?

नासा का टैगलाइन फॉर द बेनिफिट ऑफ ऑल मतलब सभी की भलाई के लिए है।

NASA का मुख्यालय (Headquarter) कहां है ?

NASA का मुख्यालय वाशिंगटन, डीसी में है इसमें लगभग 18,000 कर्मचारी तथा वैज्ञानिक काम करते हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी और साथ में गर्व भी होगा कि नासा में कार्य करने वाले लगभग 36% वैज्ञानिक भारतीय तथा भारतीय मूल से संबंधित है।

नासा का इतिहास क्या है ? ( History Of NASA In Hindi)

NASA का गठन नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस अधिनियम के अंतर्गत 29 जुलाई 1958 में इसके पूर्व अधिकारी संस्था नेशनल एडवाइजरी कमिटी फॉर एयरोनॉटिक्स (NACA) के स्थान पर किया गया था।

इस संस्था ने 1 अक्टूबर 1958 से कार्य करना शुरू किया तब से आज तक अमेरिकी अंतरिक्ष अन्वेषण के साथ सारे कार्यक्रम नासा द्वारा ही संचालित किए जाते हैं। जिनमें अपोलो चंद्रमा अभियान, skylag Antriksh Station और बाद में अंतरिक्ष अटल शामिल है।

फरवरी 2006 में नासा का लक्ष्य भविष्य में अंतरिक्ष अन्वेषण, वैज्ञानिक खोज और एयरोनॉटिक संशोधन था। 14 सितंबर 2011 में नासा ने घोषणा की कि उन्होंने एक नए स्पेस लॉन्च सिस्टम के डिजाइन का चुनाव किया है जिसके चलते संस्था के अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष में और दूर तक सफर करने में सक्षम होंगे और अमेरिका द्वारा मानव अंतरिक्ष अन्वेषण में एक नया कदम साबित होंगे।

जाने

नासा में नौकरी कैसे पाए ? ( How to get job in NASA)

अगर आपने साइंस टेक्नोलॉजी मैथमेटिक्स या इंजीनियरिंग के क्षेत्र में ग्रेजुएशन किया है तो नासा में आप जा सकते है इसके अलावा पोस्ट ग्रेजुएशन और वर्क एक्सपीरियंस यह विमानों को उड़ाने का कम से कम 1000 घंटे का अनुभव भी चयन के लिए एक अनिवार्य शर्त है।

नासा में नौकरी के लिए अप्लाई कैसे करें ?

अगर आप नासा में नौकरी पाना चाहते हैं तो आप नासा की ऑफिशियल वेबसाइट www.nasa.gov में जाकर अपनी योग्यता के अनुसार रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

शारीरिक योग्यता (Physical fitness for NASA)

  • आवेदक को शारीरिक रूप से फिट होना बहुत ही आवश्यक है।
  • देखने की क्षमता अच्छी होनी चाहिए।
  • ऊंचाई 5 फीट 2 इंच से लेकर 6 फीट 3 इंच तक
  • ब्लड प्रेशर नार्मल होना चाहिए

ट्रेनिंग (Training for NASA)

यदि आप NASA में सिलेक्ट हो जाते हैं तो अगले 2 साल के कड़े प्रशिक्षण और मूल्यांकन के दौर में समाप्त होंगे इन 2 सालों में आपको इतनी पढ़ाई करनी होगी जितनी बाहर रहते हुए आप 4 साल में करते हैं मगर यहां कहीं गर्मियों की छुट्टियां नहीं मिलती है इस प्रशिक्षण के दौरान उम्मीदवार को वास्तविक मिशन के दौरान काम में आने वाले कौशल सिखाए जाते हैं ।

अंतरिक्ष में जाने से महीनों पहले स्पेस में जाने की ट्रेनिंग दी जाती है। स्पेस में जाकर जो कुछ भी करना होता है वह इस चरण में सिखाया जाता है। कैंडिडेट को 2 साल की ट्रेनिंग दी जाती है। जिस दौरान उनको उन कौशल को सिखाया जाता है जिसकी जरूरत मिशन के दौरान पड़ती है।

अंतरिक्ष जाने का मौका कब मिलता है ?

यदि आपने दूसरे चरण का प्रशिक्षण पूरा कर लिया तो आपको अभी भी स्पेसिफिक ट्रेनिंग का स्तर पूरा करना होगा। स्पेस में जाने से पहले ही ट्रेनिंग शुरू हो जाती है

वेतन (Salary)

अंतरिक्ष यात्रियों को सालाना वेतन करीब ₹45,000 से लेकर 1 करोड़ रुपए तक मिलता है रैंक और अनुभव के आधार पर अनुभवी अंतरिक्ष यात्रियों को एक करोड़ से ज्यादा वेतन भी मिलता है।

इन्हे भी पढ़े

उम्मीद करते हैं दोस्तों आप सभी को यहां लेख NASA Full Form in Hindi पसंद आया होगा। इसी तरह के अच्छी-अच्छी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करें और इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद

और जाने

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap