सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) – What is Software in Hindi

सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) : खेल, शिक्षा, स्वास्थ्य, मनोरंजन इत्यादि जीवन के अनेक क्षेत्रों में आज हम कंप्यूटर का उपयोग देखते हैं। लेकिन कंप्यूटर नामक इस मशीन को बनाने के लिए मुख्यतया दो भागों का उपयोग किया जाता है हार्डवेयर एंड सॉफ्टवेयर |

लेकिन लोगों को अक्सर मशीनी पुर्जे हार्डवेयर के बारे में तो पता होता है। लेकिन सॉफ्टवेयर के बारे में वह कुछ विशेष नहीं जानते हैं, इसलिए आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्या है?(What is Software in Hindi) इसकी परिभाषा, उदाहरण इत्यादि सभी विषयों को डिटेल से बताएंगे।

सॉफ्टवेयर क्या है? What is Software in Hindi

Computer के सभी प्रोग्राम्स और उनके निर्देशों के समूह को सॉफ्टवेयर कहा जाता है। प्रायः एक software में अनेक ऐसे निर्देश होते हैं, जो कंप्यूटर को किसी विशेष कार्य को पूरा करने के लिए दिए जाते है।

कंप्यूटर पर किसी भी प्रकार के कार्य को पूर्ण करने के लिए कंप्यूटर को सॉफ्टवेयर के द्वारा ही क्षमता प्राप्त होती है। अगर कंप्यूटर के अंदर सॉफ्टवेयर ना हो तो कंप्यूटर बस एक प्लास्टिक का डब्बा ही रहेगा। इस पर आप जरूरी काम नहीं निपटा सकेंगे।

सॉफ्टवेयर में बहुत सारे प्रोग्राम और इंस्ट्रक्शन मौजूद होते हैं जो कंप्यूटर के आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं। इसके द्वारा ही हार्डवेयर को ऑपरेट करते हैं। यूजर के द्वारा जितने वर्क कंप्यूटर पर कंप्लीट किए जाते हैं वह सभी सॉफ्टवेयर के द्वारा ही पूरे होते हैं।

जैसे कि एमएस वर्ड में हम जो टाइपिंग करते हैं, फोटोशॉप में हम जो फोटो की एडिटिंग करते हैं, क्रोम ब्राउज़र में हम जो इंटरनेट चलाते हैं वह सभी सॉफ्टवेयर के कारण ही संभव हो पाता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सॉफ्टवेयर का निर्माण करने के लिए जो लोग होते हैं उन्हें सॉफ्टवेयर डेवलपर कहा जाता है, जो सॉफ्टवेयर डेवलपिंग से संबंधित कोर्स को करने के बाद सॉफ्टवेयर डेवलपर बनाते हैं और विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर तथा एप्लीकेशन का निर्माण करते हैं।

जब हम कंप्यूटर को स्टार्ट करते हैं तो सॉफ्टवेयर सबसे पहले रैम में लोड होता है और उसके बाद सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट में एग्जीक्यूट होता है।

 सॉफ्टवेयर की विशेषता यह है कि इसे आप नहीं देख सकते ना ही टच कर सकते हैं क्योंकि यह फिजिकल फॉर्मेट में नहीं होता है इसे सिर्फ अंडरस्टैंड किया जा सकता है।

सॉफ्टवेयर की परिभाषा (Definition of Software in Hindi)

सॉफ्टवेयर का निर्माण किसी खास उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया जाता है। यह कंप्यूटर प्रोग्राम और कमांड का एक ऐसा संगठन है जो कंप्यूटर को उस उद्देश्य से संबंधित कार्य को पूरी क्षमता के साथ करने की क्षमता प्रदान करता है।

सॉफ्टवेयर के उदाहरण (Examples of software in Hindi)

सॉफ्टवेयर के उदाहरण निम्नानुसार है।

  • फोटोशॉप
  • एम एस वर्ड
  • कोरल्ड्रॉ
  • मीडिया प्लेयर
  • ऑडियो प्लेयर

इन्हे भी पढ़े

सॉफ्टवेयर के प्रकार (Types of Software)

मुख्य तौर पर सॉफ्टवेयर के दो प्रकार होते हैं जिनकी जानकारी निम्नानुसार है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

दूसरे कंप्यूटर प्रोग्राम्स को नियंत्रित करने के लिए और हार्डवेयर के संचालन के लिए सिस्टम सॉफ्टवेयर के अंतर्गत आने वाले सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल होता है। यह हार्डवेयर पार्ट्स के साथ कम्युनिकेशन करते हैं साथ ही मेमोरी और सीपीयू को कंट्रोल और मॉनिटर करते हैं। इसके अलावा दूसरे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के डेवलपमेंट को भी सपोर्ट करते हैं।

सिस्टम सॉफ्टवेयर के चार भाग है –

1. ऑपरेटिंग सिस्टम : Android, iOS, macOS, Windows, Linux and Unix, etc.

2. यूटिलिटी : Antivirus, Data Backup, Data Recovery, Firewall, Disk Defragmentation, and System Diagnosis, etc.

3. डिवाइस ड्राइवर : USB Drivers, Printer Drivers, Motherboard Driver, Network Adapter Drivers, ROM Drivers and VGA Drivers, etc.

4. लैंग्वेज ट्रांसलेटर : Compiler, Interpreter, and Assemblers, etc.

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

किसी स्पेशल टास्क के लिए यूजर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करता है। किसी स्पेशल काम के लिए इस प्रकार के सॉफ्टवेयर को क्रिएट किया जाता है। यह यूज़र के द्वारा दिए गए इनपुट को समझने की कैपेसिटी रखता है और इन्हें जब चाहे इंस्टॉल अथवा जब चाहे अनइनस्टॉल किया जा सकता है।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को दो भाग में बांटा गया है जिसमें बेसिक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को सामान्य उद्देश्य एप्लीकेशन कहा जाता है। इसका बड़े पैमाने पर इस्तेमाल बिजनेस के क्षेत्र में किया जाता है। जैसे कि वर्ड प्रोसेसर, स्प्रेडशीट और डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम इत्यादि।

इसका दूसरा भाग स्पेशलाइज एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर होता है जिसे किसी खास मकसद के लिए क्रिएट किए गए एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर की लिस्ट में रखा जाता है। इसके अंतर्गत वेब ब्राउज़र, म्यूजिक प्लेयर, वीडियो एडिटर और सोशल मीडिया एप्लीकेशन आती है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है?

जो प्रोग्राम सिस्टम को चलाने का काम करते हैं साथ ही उसे काम करने के लायक बनाए रखने का काम करते हैं उसे सिस्टम सॉफ्टवेयर कहा जाता है। यही हार्डवेयर को पूरी पावर देते हैं ताकि वह कंप्यूटर के साथ मिलकर के बेहतर तरीके से वर्क कर सके।

इसी की वजह से कंप्यूटर के जो हार्डवेयर है और जो एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर हैं वह आसानी से चलते हैं साथ ही यह कंप्यूटर को मैनेज भी करता है और यूजर तथा सिस्टम के बीच इंटरफेस के तहत काम करता है। सिस्टम सॉफ्टवेयर के मुख्य उदाहरण ऑपरेटिंग सिस्टम, बॉयोस, ड्राइवर, ब्लूटूथ, ऑडियो इत्यादि हैं।

प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर क्या है?

यह इंस्ट्रक्शन अथवा इंस्ट्रक्शन के ग्रुप का सेट होता है और यह सॉफ्टवेयर डेवलपर को प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर बनाने के लिए साथ ही डीबगिंग में और दूसरे कार्यक्रमों और आवेदन को बनाए रखने में सहायता देता है।

मोबाइल सॉफ्टवेयर क्या है?

ऐसे सॉफ्टवेयर जो स्पेशल तौर पर मोबाइल के लिए क्रिएट किए जाते हैं उन्हें मोबाइल सॉफ्टवेयर कहा जाता है। मोबाइल सॉफ्टवेयर एंड्राइड और आईओएस दोनों ही प्लेटफार्म के लिए बनाए जाते हैं। अगर कोई एंड्राइड मोबाइल सॉफ्टवेयर है तो वह सिर्फ एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर ही चलेगा और अगर कोई आईओएस मोबाइल सॉफ्टवेयर है तो वह सिर्फ आईओएस प्लेटफॉर्म पर ही चलेगा।

सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है?

सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है?
सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है?

जिस सॉफ्टवेयर को जिस मकसद के लिए बनाया जाता है उसी चीज पर यह डिपेंड करता है कि वह सॉफ्टवेयर कैसे काम करेगा। जो ऑपरेटिंग सिस्टम होते हैं वह कंप्यूटर में फाइल को मैनेज करने के लिए और कंप्यूटर को स्टार्ट करने के लिए इस्तेमाल में लिए जाते हैं। इसी तरह दूसरे सॉफ्टवेयर के काम अलग-अलग होते हैं।

जैसे की पेंट और फोटोशॉप का ग्राफिक को डिजाइन करने में इस्तेमाल किया जाता है वही वर्ड और नॉट पैड सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कंप्यूटर में दस्तावेज क्रिएट करने के लिए किया जाता है।

इस प्रकार से एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर होते हैं जिनका इस्तेमाल गेम खेलने के लिए किया जाता है। वही हेल्थ, एंटरटेनमेंट और एजुकेशन इत्यादि के लिए बहुत सारे प्रकार के एप्लीकेशन होते हैं।

 अगर संक्षेप में कहा जाए तो सॉफ्टवेयर को जिस उद्देश्य के लिए बनाया गया होता है उसी उद्देश्य पर यह डिपेंड करता है कि वह सॉफ्टवेयर कैसे काम करेगा।

Software कैसे बनाएं?

सॉफ्टवेयर डेवलप करने के लिए व्यक्ति को कंप्यूटर भाषा यानी की कोडिंग और प्रोग्रामिंग की इंफॉर्मेशन होनी चाहिए। क्योंकि प्रोग्रामिंग और कोडिंग के द्वारा ही कंप्यूटर सॉफ्टवेयर तैयार किए जाते हैं। इस प्रकार से आपको सॉफ्टवेयर बनाने के लिए जावास्क्रिप्ट, जावा, एचटीएमएल, पाइथन जैसी लैंग्वेज सीखनी पड़ेगी।

हम अपने स्मार्टफोन में जिन एप्लीकेशन का इस्तेमाल करते हैं उन सभी एप्लीकेशन का निर्माण कोडिंग के द्वारा किया जाता है और कंप्यूटर के अंदर इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर जैसे कि एमएस ऑफिस, एंटीवायरस और नोटपैड यह सभी कोडिंग के द्वारा ही बनाए जाते हैं।

सॉफ्टवेयर बनाने का काम जिस व्यक्ति के द्वारा किया जाता है उसे सॉफ्टवेर प्रोग्रामर अथवा सॉफ्टवेयर डेवलपर या फिर सॉफ्टवेयर इंजीनियर कहा जाता है और इन्हीं के द्वारा कोडिंग का इस्तेमाल करते हुए बेहतर से बेहतर सॉफ्टवेयर बनाने का प्रयास किया जाता है।

इन्हे भी पढ़े

सॉफ्टवेयर के फायदे क्या है?

सॉफ्टवेयर के लाभ निम्नानुसार हैं।

  • कम्युनिकेशन के पारंपरिक तरीके की तुलना में सॉफ्टवेयर का उपयोग करने से कई फायदे होते हैं।
  • सॉफ्टवेयर तेज,ज्यादा कुशल और इस्तेमाल करने में आसान होता है।
  • हर यूजर की किसी खास आवश्यकता को पूरा करने के लिए सॉफ्टवेयर को डिवेलप किया जाता है। जिसकी वजह से यह इंस्टिट्यूट और बिजनेस के लिए एक बेहतरीन उपकरण बनता है।
  • किसी भी स्थान से अथवा किसी भी डिवाइस से आसानी के साथ सॉफ्टवेयर को एक्सेस कर सकते हैं और इसी की वजह से यह दूसरे के साथ कम्युनिकेट करने का बहुत ही सुविधाजनक जरिया बन जाता है।
  • सॉफ्टवेयर बहुत ही भरोसेमंद होते हैं जो यूजर को हाई क्वालिटी की सिक्योरिटी और एक्सेसिबिलिटी प्रदान करते हैं।
  • सॉफ्टवेयर को समय के साथ आसानी से बदला जा सकता है। इस प्रकार से समय-समय पर अपडेट होने की वजह से यूजर को नई सर्विस प्राप्त होती है।

सॉफ्टवेयर के नुकसान क्या है?

सॉफ्टवेयर के नुकसान अथवा सॉफ्टवेयर की हानियां क्या है, इसके बारे में आइए नीचे जानते हैं।

  • सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना थोड़ा सा मुश्किल हो सकता है।
  • सॉफ्टवेयर बनाने में अधिक लागत आ सकती है जिसकी वजह से यूजर के लिए यह महंगा हो सकता है।
  • सॉफ्टवेयर में एरर आ जाने पर इस पर भरोसा नहीं किया जा सकता है।
  • कभी-कभी सॉफ्टवेयर रिस्पांस देने में काफी देर लगाता है।
  • कोई सॉफ्टवेयर दूसरे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के साथ अनकंफरटेबल हो सकता है।
  • इसे अपडेट करने में या फिर एडिटिंग करने में भी समस्या हो सकती है।

सॉफ्टवेयर से सम्बंधित प्रश्न उत्तर {FAQs}

सॉफ्टवेयर का काम क्या है?

जिस उद्देश्य के लिए सॉफ्टवेयर को बनाया गया है उसे पूर्ण करना।

कंप्यूटर में कौन सा सॉफ्टवेयर होता है?

कंप्यूटर में सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है।

कंप्यूटर का दूसरा नाम क्या है?

कंप्यूटर का दूसरा नाम संगणक है।

सॉफ्टवेयर को कौन बनाता है?

सॉफ्टवेयर डेवलपर, सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर सॉफ्टवेयर को कौन बनाता है।

सॉफ्टवेयर को क्यों नहीं छू सकते हैं?

यह दिखाई नहीं देता है और यह फिजिकल फॉर्मेट पर नहीं होता।

सिस्टम सॉफ्टवेयर और मोबाइल सॉफ्टवेयर में क्या अंतर है?

सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के लिए होता है और मोबाइल सॉफ्टवेयर स्मार्टफोन डिवाइस के लिए होता है।

मोबाइल में सॉफ्टवेयर कैसे मारते हैं?

मोबाइल में सॉफ्टवेयर Flash tool के द्वारा मारते हैं।

क्या सॉफ्टवेयर को फ्री में इस्तेमाल कर सकते हैं?

जो सॉफ्टवेयर फ्री हैं उन्हें फ्री में इस्तेमाल कर सकते हैं और पेड सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करने के लिए पैसे देने पड़ेंगे।

आज हमने क्या सीखा?

तो दोस्तों आज हमने सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) कैसे काम करता है? और इसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। उम्मीद करते हैं कि आप सभी को यह जानकारी पसंद आई होगी। आपको इस आर्टिकल से संबंधित कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट बॉक्स पर पूछ सकते हैं हम जल्द से जल्द ही आपके प्रश्नों का उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

अगर आप सभी को यह आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले ताकि उन्हें भी सॉफ्टवेयर के बारे में पूरी जानकारी मिल सके हम से जुड़े रहने के लिए धन्यवाद।

सॉफ्टवेयर क्या है (Software Kya Hai) – What is Software in Hindi

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap